Tuesday, 26 January 2016

67 साल का अनुभवी हमारा गणतंत्र

आज हमारा देश संविधान लागू होने की 67वीं वर्षगांठ मन रहा है| देश आजाद हुआ तो शासन को संभाले के लिए अपने संविधान अपने कानून की जरूरत महसूस ही जाने लगी| आंबेडकर सरीखे बुद्धिजीवी लोगों ने अपनी जिम्मेवारियों को बखूबी निभाते हुए देश के लिए एक अनोखा संविधान तैयार किया, जिसमें जनता के जितने अधिकार हैं उनसे कहीं ज्यादा नेताओं के विशेषाधिकार है| जिसमें अमेरिका, आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, जर्मनी जैसे देशों की नियम-कायदे को अपना अपना बनाया गया| निष्पक्ष न्यायपालिका बनी तो कार्यपालिका की डोर को थामे विधायिका के लिए खूब सारे इंतजाम किये गए, शक्तियां दी गयी| एक नजरिये से देखें तो संविधान जो भी बनाया गया है अभी भी चल रहे अंग्रेजी कानूनों से अच्छा ही है| फिर भी अबतक अपना कानून बनाने की जरूरत क्यूँ नहीं महसूस की गयी? अगर संविधान देश का बनाया चले तो कानून अपना क्यों नहीं? क्यों हम अभी भी अंग्रेजी सांचे में रची-बसाई बगिया में उलझे हैं, जहाँ हमारी खुद की भाषा की कोई अहमियत नहीं, कोई पूछता तक नहीं| जहाँ न्यायालय के एक फैसले को सुनने के लिए सारी जिन्दगी भी कम पड़ जाती है! फिर भी न्याय मिले इसकी कोई गारंटी नहीं देता|
             
          67 वर्षों के इस लम्बे सफ़र में हमारे देश ने काफी कुछ देखा है और उसे सहा भी है| संविधान की ओट लेकर हमें आपातकाल दिखाया गया, शाहबानों प्रकरण में दिखाया गया की न्यायपालिका से भी सर्वोच्य कोई है, जिसके आगे संविधान कुछ भी नहीं| दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में सबसे बड़ा लिखित संविधान आम आदमी के अधिकारों की सबसे बड़ी पैरवीकार है तो वहीँ नुमाइंदों के असीमित स्वन्त्रता की बेड़ियाँ भी है| इस संविधान का सबसे बड़ा रक्षक सुप्रीम कोर्ट इसकी रक्षा के लिए हमेशा डंडे लेकर बैठा है| इस संविधान ने आम आदमी को बोलने की आवाज दी है, गलत को चुनौती देने का साहस दिया है तो देश में कहीं भी आने-जाने और रहने-बसने की स्वन्त्रता भी दी है| लेकिन क्या यही वास्तविकता है, यही सच है जो हमें दिखाया जाता है, बताया जाता है या कुछ और?
                                       
Image result for indian constitution maker image          सरकार अक्सर इस संविधान की भूरी-भूरी प्रशंसा करते नहीं थकती और जनता भी| पर अब लोग इसमें मौजूद कमियों को निकालने लगे हैं, इसे बेहतर बनाने की मांग करने लगे हैं जो एक स्वस्थ लोकतंत्र का अंग है| लेकिन कैसे? कौन लडेगा सरकार से, उनकी पुलिस से? एक बार तो पुलिस ज्यादती से सहम कर सर्वोच्य न्यायालय ने टिप्पणी की थी की ‘पुलिस सरकार का गुंडा है’| जो अपने मालिक के हित के लिए सदैव समर्पित होता है|

          ये सही है की संविधान ने आम आदमी को जीने की स्वतंत्रता दी है, बोलने की आजादी दी है, कहीं भी रहने की छुट दी है| पर क्या ये सारे अधिकार भारतवासियों के पास है? कहीं सभा करो तो पुलिस लाठियां चलाती है और अशांति फैलाने के मुकदमें दर्ज कर देती है| वो सारे लोग 10-15 साल कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाते रहते हैं सिर्फ ये साबित करने के लिए की वे अशांति नहीं फैला रहे थे| नेताओं पर बोलो तो जेल में डाल दिया जाता है| हम कश्मीर में बस नहीं सकते| हम भारतीय भाषाओं में पढ़कर न तो बेहतर डॉक्टर बन सकते हैं न ही इंजीनियर| हमें मुकदमें भी अंग्रेजी में लड़ने पड़ते हैं, नौकरी करने के लिए अंग्रेजी सीखनी पड़ती है उसे रटना पड़ता है| संविधान को बदलने का अधिकार जिन नुमाइंदों ने खुद अपने हाथ में रखी है, वो जरा इतिहास उठाकर देखें की कितने बदलाव बिना किसी राजनीतिक मकसद के हुई है? कोर्ट रोक लगाता है तो फिर से नया क़ानून बना लेते हैं| परेशानी खड़ी करने वाले जजों पर महाभियोग चलाकर हटा देते हैं|

          कुल मिलाकर नतीजा यह निकलता है की यह देश, इसका संविधान और इसकी नीतियाँ राजनीति के भुलभुलैये में उलझकर रह गयी है| संविधान और कानून का राज नाम का एक टिमटिमाता तारा दिखाकर लोगों को भरोसा दिया जा रहा है और रहेगा भी| अपना संविधान चाहे 67 सालों का भले ही हो गया लेकिन देश की राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक परिस्थितियां बताती है की उस उम्र की परिपक्वता पाने में हम सक्षम नहीं हैं, जिसके सपने हमारे पूर्वजों ने पाले थे| इसलिए संविधान की ओट में अपना हित साधनों वालों की झूठ-मुठ की महिमामंडन से मुझे सख्त नफरत है...


Image result for india flag imageलेखक:- अश्वनी कुमार, पटना (जो अपने ब्लॉग के माध्यम से समर्पित है अपने राष्ट्र की एकता और अखंडता को सुनिश्चित करने के लिए)

गरीब देश के अमीर रईस

Image result for poors of india imageअखबारों में खबरें आई की भारत की 1% आबादी के पास देश की कुल 53% सम्पति है| मतलब साफ़ है की बाकी 99% भारत की जनता 47 फीसदी सम्पति के सहारे जीवनयापन कर रही है| उसमें भी 2.36 लाख लोग ऐसे हैं जो करोड़पति हैं| भारत के अन्दर भी दो देश हैं, एक देश अरबपतियों का है जिसके रहने का बंदोबस्त 500 करोड़ लागत वाले बंगले तक में है| जबकि दूसरे देश की तस्वीर में बेरोजगारी है तो भुखमरी भी है और उसमें कुपोषण है, गरीबी है, बीमारी है वहीँ बंगला क्या सिर पर प्लास्टिक नसीब हो जाए तो चमत्कार ही होगा|

          देश में कभी गरीबी की परिभाषा 28 रुपये तय की जाती है तो कभी 32 रुपये रोजाना कमाने की| इससे भी कम कमाने वालों की तादाद 38 करोड़ है| सोचिये की देश की सरकारें अलग-अलग टैक्स लादकर इन गरीबों का खून किस हद तक चूसेगी? देश के कॉर्पोरेट घरानों के ऊपर 28 लाख करोड़ रुपये का बकाया टैक्स यूँ ही माफ़ कर दिया जाता है, उन घरानों को जनता से मुनाफा वसूलने की खुली छुट भी दी जाती है जो मजबूर है| गरीबों की परिभाषा तय करने का किसी को क्या अधिकार है? जो लक्जरी गाड़ियों में चलता है, आलीशान बंगले में रहता है| जिनके यहाँ कुत्ते भी रोज मिठाइयाँ खाता हो, एसी-हीटर में रहता हो वो गरीबों के लिए नीतियाँ बनाते हैं| यही देश के असली रईस हैं...
बताने की जरूरत नहीं है वे कौन-कौन हैं...
लेखक:- अश्वनी कुमार, पटना जो ब्लॉग पर ‘कहने का मन करता है’(ashwani4u.blogspot.com) के लेखक हैं... आते रहिएगा...


Monday, 25 January 2016

Why fearing Secular from ISIS?

Now, I have come once again with my English blog after long time. The large No. of secular leaders are anxious about ISIS reached India. what’s happening with this leaders and parties, who frequent demonstrate to save false propaganda against right of minorities i.e. Muslim? Entire circle of so called leaders often seen to protest with every issue of country, which gloom the image of government. But the issue of perceptional threat of Islamic State vibrate all the people specially, leaders. Because Islamic state’s terrorists assume that all anti-muslim is their enemy and they want to flag off again the throne of ‘Khalifaa’ around all over the world.
Image result for image of isis                        where did go the preach of moral and immoral of our Netas? Why are they not delivering their speech of human right? the plight of Indian society is made by that type of so called strategist of the nation who ever spree for their own interest. Islamic state apprehensiate with its power of ‘Jihad’ and also enhance their kingdom from irak & seria to iran, Saudi Arab, Afganistan. Main issue of ISIS threat for India. Islamic state has desired to take under shadow of islam at many occasion. However, our leaders don’t correct its nature to play vote bank card of muslims and appeasement of muslim law right. ISIS has gazing to find appropriate time to make first attack in India, which also proved by recently 17 accused held to spread terror in nation.
                        Narendra Modi’s government is not working properly to uproot terrorism from India specially J&K. Yet, The velly have witnessed of many anti-national activities by unfaithful kashmiries during approximate 2year of tenure. The implementation of Kashmiri pandit is on the file till now. Hence, It is time to fight solely against terror, nab them and also punish them who gives shelter. So Altogether, The conclusion extract from that the government has no time from convincing opposition and opposition has also no time to demonstrate at inferior issues. So, People will pray to god otherwise they have no way…


Writer:- Ashwani kumar, who ever want to become an independent remarker…     

Wednesday, 20 January 2016

हाँ भैया, बिहार में गोलियों की बौछार है...

रंगदारी, लूट, मर्डर जैसे शब्दों की दहशत बिहारवासियों के मन-मस्तिष्क पर फिर से छाने लगी है| क्या वाकई बिहार जंगलराज की तरफ लौट रहा है? या लूट-हत्या जैसी घटनाएं पहले भी होती थी लेकिन इस बढ़ा-चढ़ा कर पेश करना विरोधियों की साजिश हो सकती है की लालू सत्ता में बने हैं, इसलिए बिहार की दशा-दिशा बदली नज़र आ रही है! तमाम सवाल उठ रहे हैं नीतीश के कुशल नेतृत्व पर| सच ये है की राजधानी पटना की सड़कों पर रात 9 से 10 बजते-बजते रास्ते सुनसान पड़ने लगे हैं, कुत्ते की भौंकने की गूंजें सन्नाटे को चीरती हुई शहर के आलीशान खिडकियों से टकराकर प्रतिध्वनि पैदा करने लगी है| तमाम मोहल्ले वासी जरा सी आहट पर चौंक उठते हैं| चोरों के आतंक की ख़बरें नियमित कार्यक्रम की तरह अखबार में जगह बनाए हुए है| हर एक चौक-चौराहे पर डंडे लिए सिपाही खड़े होते हैं, जैसे किसी गाय-भैंस को रोकना हो| सीसीटीवी कैमरे लगे हैं यहाँ तक की इन पहरेदारों की रात में जांच करने खुद एसएसपी या डीआईजी अक्सर निकलते रहते हैं| कुल मिलाकर सुशासन का नारा कमजोर पड़ने लगा है और यदि आगे भी यही स्थिति रही तो यक़ीनन ये नारा अपने वीरगति को प्राप्त हो जाएगा|

दरभंगा में सरेआम दो इंजीनियर को गोलियों से भून देना, वैशाली में दारोगा की गोली मारकर हत्या करना हो या पटना में सरेआम दूकान में घुसकर स्वर्ण व्यवसायी को गोली मार देना, सारी घटनायों में अधिकतर वजह रंगदारी ही है| दो बैंकों में लगातार दो दिन लूट मचा पाना कतई संभव नहीं हो पाता, जबतक क़ानून का राज होता- पुलिस का खौफ होता| पुलिस के वरीय अधिकारियों के तबादले मात्र से मुख्यमंत्री अपने जिम्मेदारियों से इतिश्री नहीं कर सकते| उनकी छवि राज्य में सुशासन लाने की है जिसके लिए जनता ने उन्हें वोट भी दिया और सत्ता भी दिलाई| पुलिस-प्रशासन में राजनीतिक हक्षतेप का इतिहास काफी पुराना रहा है, पर मुख्यमंत्री के खुली छुट देने के बावजूद भी बड़े-बड़े गुंडों को पकड़ना तो दूर उनपर मुक़दमे दर्ज करने में पुलिस के पसीने छूटने लगते हैं| अगर ऐसा ही था तो क्यों  एक मामले में जदयू की मौजूदा विधायक के पति को पुलिस ने गिरफ्तार करके थाने में उसके साथ फोटो शूट करा रहे थे?

‘लालू इज किंग’ के उद्घोष के साथ लालू की राजद अध्यक्ष पद पर दिखावे के लिए ताजपोशी की गई| ‘राजद’ गरीबों की पार्टी है, जिसकी मीटिंग शहर के फाइव स्टार होटलों में होती है| बेशक, लालू किंग हैं अगर नहीं हैं तो किंग मेकर जरूर हैं\ किंग ही मानिए क्योंकि दोनों राजकुमारों की ताजपोशी भी हो चुकी है| चाहे उन राजकुमारों को भले ही तलवार चलाना न आता हो, घुड़सवारी न आती हो या राज-काज चलाना न आता हो, लेकिन राजा तो वही बनेगे क्यूंकि राजा की बेटे जो हैं| सैनिक है न तलवार चलाने के लिए! उनका हर आदेश राज्य की जनता को मानने होगा चाहे वे इसे चाहें या न चाहें| यही सच है बिहार की जीवंत राजपरिवार के पिछड़े राजनीति की| लालू कितनी भी बार पिछड़ों को अधिकार दिलाने का श्रेय खुद को देकर ताल ठोकते रहें लेकिन सिर्फ अधिकार ही नहीं दिया बल्कि लाठी-डंडे, गोली, बन्दुक चला डालने की पूरी आजादी भी दी| 15 सालों में बिहार लहूलुहान हो गया, चलने लायक भी नहीं था| अहंकार रोम-रोम से टपकता था की ‘जबतक रहेगा समोसे में आलू, तबतक रहेगा बिहार में लालू’|

Image result for bihar blood crime imageहालात जिस तरीके से बदल रहे हैं उसका श्रेय किसे जाता है ये तो जनता तय करेगी, लेकिन अगले 5 साल के बाद ही| तबतक उसे सबकुछ सहना होगा, देखना होगा| बेशक क्यूंकि जनता ने खुद पर राज करने वालों को खुद से ही चुना है| एक समय था जब माओ ने कहा था की सत्ता बंदूक की नाली से निकलती है| पर वर्मान दौर में बंदूक की नली से पैसे निकालकर पूंजीवाद को भी बढ़ाया जा रहा है वही बंदूक की नली से समाजवाद को दबाया भी जा रही है| उससे भी ज्यादा असहनीय पीड़ा नेताओं के बेलगाम जुबान देते हैं| और उससे भी ज्यादा दर्द पत्रकारों के राज-भक्ति से होती है| 
इंतजार हम सभी को है की बिहार की धरती देश की अघोषित राजनीतिक आपातकाल को कब तक झेलती है, जिसमें सत्ता का नशा भी है तो सत्ता से दूर रहने का गम भी और उसे पाने की ललक भी चाहे कितना भी खून बहे...

लेखक:- अश्वनी कुमार, पटना जो ब्लॉग पर ‘कहने का मन करता है’(ashwani4u.blogspot.com) के लेखक हैं... ब्लॉग पर आते रहिएगा...


Tuesday, 12 January 2016

सोशल मीडिया की ताकत से काँपता शासन

लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ मीडिया यानी सूचनातंत्र को कहा जाता है| देश और दुनिया के महत्वपूर्ण ख़बरों को निष्पक्षता, बेबाकी और विश्वसनीयता के साथ जनता को रूबरू कराना| लेकिन पिछले एक दशक से प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की छवि राजा-रानी की कहानियां, ग्लैमर और टीआरपी की चकाचौंध में धूमिल होती चली जा रही है| बिना रोक-टोक जनता को सारी सच्चाई से अवगत कराने के जिम्मेवारी लिया मीडियातंत्र ने (राजनीति नहीं) राजनेताओं से प्रेरित संपादकों और एंकरों के सहारे अपनी डोर राजनीतिक दलों के हाथों में सौंप दी है| ऐसे में वो दल अपने ख़ास चैनल या अखबार को अपने तरीके से नचाकर जनता के सामने अपनी मनचाही छवि बना लेता है| ऐसे लोग खुद को राजा हरिश्चंद्र का अवतार और विरोधियों को शैतान बताते नहीं थकते| लोग ख़बरों के लिए पूरी तरह से समाचार पत्रों और न्यूज़ चैनलों पर आधारित हो चुके थे| जनता को किसी ख़ास दल के लिए अच्छा सोचनें पर मजबूर किया जा रहा था और स्वाभाविक तौर पर विपक्षी दल का डर दिखाकर अखंड भारत को टूटने का खतरा भी हमें दिखाया जाता था| लोग बोर हो चुके थे| कोई उम्मीद नहीं थी जिसके सहारे लोग बिना लाठी खाए, बिना मार खाए शासन की नींव हिला डाले| सरकार को ये सोंचने को मजबूर किया जाए की आखिर उनकी जनता उस मुद्दे पर सोचती क्या थी? शायद कोई नहीं जानता था की आगे क्या होने वाला है?
देश में इंटरनेट चलानेवालों की तादाद 2009 के बाद काफी तेज़ी से बढ़ी| देश का युवा नौजवान कौतहुलवश फेसबुक, ट्विटर से जुड़ता चला गया और शायद जब मैं भी सोशल मीडिया से जुड़ा था तो दोस्तों के देखा-देखी ही| वर्ष 2013 आते-आते फेसबुक पर लोग बेबाकी से अपने विचार रखने लगे लगे थे| सरकार के निकम्मेपन की मुखर आलोचना सरकार को परेशान करने लगी थी| पहले लोग पाकिस्तान की खुनी हिमाकत पर किसी चौक-चौराहे के बीच प्रदर्शन करते और न्यूज़ वालों से फोटो खिंचवाकर वापस घर लौट आते थे| अगर कुछ जज्बाती युवा शासन को अपनी चीखों से उनकी शांति-वार्ता में भंग डालने की कोशिश करता तो उनके वर्दी वाले तथाकथित रक्षक पहले तो लाठियों से कितनों का सर फोड़ देते और हाँ न मानने पर गोलियां भी चला देते!
समूचा देश कांग्रेस के लगातार दुसरे कार्यकाल में मची लुट-खसोट से खदबदाया हुआ था| माहौल गर्म हो रहा था और सोशल मीडिया देश में अपनी फैलती लोकप्रियता से कामयाबी के झंडे गाड़ रहा था| फिर हम सब जानते हैं की किस तरह से सोशल मीडिया में नरेन्द्र मोदी एक बेजोड़, साहसी और पराक्रमी नायक की तरह उभरे और देश की सत्ता तक पहुँच गए| लोग कहते हैं की मोदी की पीएम बनने का रास्ता यूपी होकर जाता है लेकिन वास्तविकता यही है की देश में उनकी 282 सीटों का रास्ता सोशल मीडिया ने ही तैयार किया था, गुजरात का गुणगान किया, भरोसा दिलाया और सबसे महत्वपूर्ण एक सच्चे हिन्दू को राजा बना डालने की रुपरेखा भी तैयार की थी|
आज भले ही भाजपा अपने बूते सत्ता पाने की ताल ठोकती हो, राम मंदिर से किनारा करती हो, कश्मीर पर मौन बन जाती हो लेकिन सारा देश जानता है की सत्ता तक बहने वाली नदी में अपने चेहते को नाव में बिठाकर देश का मुखर युवा, धारा बनकर दिल्ली के सिहांसन तक बिना थके पूरे चुनाव में बहता रहा| पर अफ़सोस, की उन युवाओं के भविष्य की चिंता किसी को नहीं है जो बेरोजगार है, घर का सामान लाकर दस-बीस बचाकर सौ रुपये का इंटरनेट रिचार्ज कराता था उनपर इन्होने टैक्स लादकर उसकी कीमत दुगुनी तक बढ़ा दी|

सोशल मीडिया की ताकत से भलीभांति परिचित सरकार अब अपनी आलोचना से घबराने लगी है! क्या उसे अब युवाओं का पाक से उसी के जैसे वर्ताव करना, कश्मीर को पाक से आजाद कराने व दिल-तोड़ देने वाली कश्मीरी पंडितों की रक्षा की बात करना सरकार से बर्दाश्त नहीं? हमारी शांतिप्रिय सरकार और प्रधानमंत्री से अनुरोध है की वे अपने तोता-रटंत प्रवक्ताओं और फेसबुक पेज चलने वाले एडमिनों को सलाह दें की ये कायरों की धरती नहीं है| भले ही हम दाल के दाम बढ़ने पर गुस्सा दिखाएँ, पेट्रोल की कीमत कम न होने की नाराजगी दिखाएँ लेकिन हम इतने भी गांधीवादी नहीं की कोई दोनों गालों पर चांटा जड़कर चला जाए तब भी हम चुपचाप सिर झुकाकर ‘बुधं शरणम् गच्छामि’ शांति का पाठ करें| याद रहे की हम उस सनातन धर्म के वंशज है जो कभी किसी चींटी के गलती से दबकर मर जाने पर अफ़सोस जाहिर करता है लेकिन धर्म के लिए या देश के लिए किसी की जान ले लेना उससे भी श्रेष्ठ समझता है| इसलिए किसी को टमाटर या प्याज की आड़ में युद्ध न लड़ सकने की देशभक्ति पर सवाल उठाने का किसी को क्या अधिकार है?

पठानकोट में अभी क्या हुआ? मालदा में अभी क्या हुआ, पूर्णिया में क्या हुआ? कोई नहीं जानता था! सब के मुंह पर पट्टी बाँधी जा चुकी थी| लेकिन वक्त रहते सोशल मीडिया ने उस पट्टी को खोला| लोगों को पल-पल की वास्तविक हकीकत से रूबरू कराया और युवा गुस्से से उबलने लगा| अंततः मीडिया और सरकार मजबूर हो गयी| कई कठिन मौकों पर सोशल मीडिया अंधे राजनीतिक भक्तों के लिए छड़ी का सहारा बनी है| राजदीप, बरखा जैसे सेक्युलरों को सवाल के सहारे कंपकंपी छुड़ा देना हमारी फितरत रहेगी जबतक सहिष्णुता के दलालों को बिना जांचे-परखे जहर उगलने से पहले सोशल मीडिया का खौफ न हो जाए| हाँ सोशल मीडिया में अफवाह फ़ैलाने वाले भी बहुत ऐसे है जो इस राष्ट्र को हमेशा बर्बाद करने की महत्वाकांक्षा पाले मौके की तलाश में बैठे हैं| लेकिन ‘अखंड भारत’ का प्रायोजन साधू-संतों का नहीं है, बल्कि युवा नौजवानों का है| जो सेक्युलर हैं, सामने वाले से बराबरी का बर्ताव करने का क्षमता रखता है और इनमें भी कुछ कायर और डरपोक भी हैं| गुण के साथ अवगुण तो प्रकृति का नियम ही है|
खैर सोशल मीडिया भारत की वर्तमान राजनीतिक और सामाजिक परिदृश्य में अहम रोल निभा रहा है उसमें न तो पूर्वाग्रह से ग्रसित असहिष्णुओं के लिए कोई जगह है और न ही इस महान भारत पर राज करते रहे की मंशा पाले नेताओं के लिए, जिनके लिए देश से ज्यादा राजनीतिक नफा-नुकसान ज्यादा मायने रखता है| हमें किसी से देशभक्ति का सर्टिफिकेट नहीं चाहिए| क्योंकि हम सेक्युलर हैं, आधुनिक हैं और शांतिप्रिय भी, लेकिन वक्त आने पर हम चरखे से भी शिकार कर सकते हैं.....      (और... हम सवाल उठाते आये हैं और उठाते रहेंगे, तभी तो गलतियाँ कम होंगी... और हाँ अच्छे कामों की प्रशंसा भी कर दिया करेंगे...है ना!)

लेखक:- अश्वनी कुमार, पटना   (बहुत गुस्सा आता है जब किसी की देशभक्ति पर
प्याज और दाल के सहारे ऊँगली उठाई जाती है| महत्वकांक्षाओं और उम्मीदों के सहारे जीनेवाले हम युवा गिलहरी की भाँति ही सही लेकिन सुधार और आत्मसम्मान के सेतु को विकसित करने में बेशक अपनी भूमिका निभाते रहेंगे और मुखरता-बेबाकी से अपने ब्लॉगकहने का मन करता है (ashwani4u.blogspot.com) पर लिखते रहेंगे....)अपना प्यार हमें इसी तरह देते रहिएगा...


Trembling from the strength of social media governance

The fourth pillar of democracy, the media called the Suchnatantra | The country and the world the fairness of the important reports, clearance and reliability to interact with the public | But the past decade, the image of the king and queen of the print and electronic media, stories, glamor and dazzle of the TRP is gone foggy | Freely took responsibility for informing the public of the truth of Meediatantra (not politics) driven by politicians, political parties, editors and anchors along the door is handed | The parties that particular channel or newspaper image you want to make your way to the public takes Nachakr | Raja Harishchandra incarnation of the people themselves and not tire out opponents devil | Those reports solely to newspapers and news channels were based on | Socnen good for the public at a special party was being forced and obviously showing a united opposition fear the threat of demolition to India was also shown us | People were bored | People did not expect the support staff without eating, not by without shaking the foundations of the regime casts | The government may be forced to Soncne end of what their people think that was the issue? Perhaps no one knew what is going to happen next?
Clanewalon number of Internet in the country since 2009, grew fairly rapidly | The country's young youngster Kauthulvs Facebook, Twitter went connect and maybe if I was connected to social media friends have seen seen | 2013 approached people on Facebook were beginning to discharge their views | Outspoken criticism of government inefficiency, the government began to harass | Pakistan first on a square-intersection between the murderer dared to perform and news to those who returned home from getting photographed | Their screams something emotional young regime tries to dissolve in their peace-talks his uniform so-called defenders before bursting into the head with sticks and yes some of the pills on Refusing to give away!
Congress resembled plundered the entire country for the second consecutive term of plunder was Kdbdaya | The atmosphere was warm and his expanding popularity of social media in the country was TRIUMPHSAND | And we all know what kind of a unique social media Narendra Modi, brave and mighty hero emerged as the country's power reached | UP to become PM of his way to say but the reality is that the 282 seats in the country was created by way of social media, lauded Gujarat, assured and the most important to a Hindu king The framework also had to put up |
Even today, BJP to power on our own rhythm Tokti, the temple does strand, becomes silent on Kashmir but the whole country knows the power of the flowing river in the country's outspoken young face.She sit in the boat, stream In the election to the throne of Delhi as tired spilled | Lament, of the future of young people who do not have anyone who is unemployed, household goods brought ten-twenty hundred bucks saved them, He was providing Internet Recharge tax increased to twice the value loaded |
Acutely aware of the power of social media, the government has been alarmed by criticism! He behaves like that of Pakistan's youth, to liberate Kashmir from Pakistan and the Kashmiri Pandits heartbreaking thing to defend the government stand? Our peace-loving government and the Prime Minister's request and the Facebook page of their parrot-Rtnt spokesmen advise Adminon running is not the land of the cowards | Even if we show anger at rising prices of pulses, lower the price of gasoline is not the Gandhian's displeasure show but we did not so that was hitting a slap on both cheeks when we bowed silently 'Budn Srnm Gchchhami Peace recite | We have to remember that once an ant of Sanatana Dharma descendant died accidentally buried expressed regret but for religion or country to take someone's life, even the best understands | So anyone who can not fight in the guise of tomatoes or onions to question the patriotism of anyone's rights?
Pathankot what just happened? Malda what just happened, happened in Purnia? no one knew! The face had been all folded | But the social media bar that opened in time | People from the actual reality of the moment began to simmer with anger introduced and youth | Finally, the media and the government was forced | Many difficult times social media is blind political followers stick to devise | Rajdeep, Barkha Sekyulron such wean shiver through the question will remain as long as our spirit of tolerance without brokers spit poison before check-tested social media should not fear | Yes there is a lot of social media spread the rumor that this nation has always nurtured the ambition to ruin chances are waiting for a | But the 'Akhand Bharat' sponsorship of sages and saints, but also the young youth | The secular, from the front has the potential to equal treatment and also provide some cowardly and timid | With properties demerit is the law of nature |
Well social media play an important role in India's current political and social landscape is no place for it Ashishnuon neither biased nor the intent of this great country are ruled nurtures leaders, who over the country Political pros and cons means more | We do not want a certificate of patriotism from | Because we are secular, modern and peaceful too, but when the time comes we can also victims of wheel ..... (more ... We have been and will continue to raise the question, why are fewer mistakes ... And yes, good deeds will be appreciated ... right!)
Author: - Ashwani Kumar, Patna (very angry when someone is pointing a finger along patriotism onions and lentils | aspirations and expectations of the young squirrels like us who live along the right but the levee improvements and to develop self-esteem The course will continue to play its role and assertiveness-discharge his blog saying that the mind '(ashwani4u.blogspot.com) will write on ....)
Keep your love give us the same kind ...